शुक्रवार, 14 अप्रैल 2017

खुशियो का बैंक


"कर्म" एक ऐसा रेस्टोरेंट है ,
जहाँ ऑर्डर देने की
जरुरत नहीं है
हमें वही मिलता है जो
हमने पकाया है।

जिंदगी की बैंक में जब
" प्यार " का " बैलेंस "
कम हो जाता है
तब " हंसी-खुशी " के
चेक बाउंस होने लगते हैं।

इसलिए हमेशा
अपनों के साथ
नज़दीकियां बनाए रखिए ।
🌸🔆🌸 🌸🔆🌸🔆🌸🔆🌸
🌻🌻 सुप्रभात 🌻🌻
🌷 आज का दिन मंगलमय हो🌷

posted from Bloggeroid

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Search anything here

Follow by Email