रविवार, 23 जुलाई 2017

एक छोटी सी request | A small request

Request - Actualpost.com
दोस्तो, वैसे तो हिन्दी दुनिया मे चायनीज़ के बाद दूसरी सबसे ज्यादा बोली-पढ़ी जाने वाली भाषा है फिर भी इसका दबदबा इंग्लिश के मुक़ाबले बहुत कम है। अगर हम अपना देश को विकसित करना चाहते है तो हमे अपने देश मे निर्मित संसाधनो एवं तरीको को अपनाना चाहिए। उदाहरण के लिए दुनिया के विकसित देशो को ही देख लो, चीन अपने देश की भाषा को ही ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करता है। वहा के लोगो ने बाहरी मेसेजिंग app को use न कर स्वदेशी app WeChat को अपनाया। जापान के लोग केवल अपने देश मे बना product ही ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करते है। शायद हर विकसित देश यही तरीका अपनाता है।
इंटरनेट पर हिन्दी का दबदबा कम है। अगर हमे कोई टॉपिक पर जानकारी चाहिए तो हम ज़्यादातर Google और Bing पर सर्च करते है पर ज्यातर बार परिणाम कुछ अलग ही होते है। इन्सपिरेशन की मामले मे AchchiKhabar.com, Hindindia.com, GyaniPandit, Achchisoch, Aasanhai.com, Happyhindi.com आदि वैबसाइट ने काफी बढ़िया काम किया है पर भी बाकी के मामलो मे खासकर छोटी-मोटी इन्फॉर्मेशन जैसे मामलो मे हिन्दी थोड़ी पीछे है और इसका सबसे बड़ा कारण है की कुछ Blogger केवल कुछ पैसो के लिए गलत जानकारी पोस्ट कर देते है। फिर हम सर्च कुछ और करते है और पोस्ट मे लिखा कुछ और मिलता है।
तो मेरी आप सभी से विनती है की जो भाषा हमे सोचने का एक जरिया देती है, अपने भावो को प्रकट करने का सबसे बढ़िया तरीका प्रदान करती है उस भाषा के खातिर एक इन्फॉर्मेशन जरूर पोस्ट करना। सच मे हिन्दी मे हम जितना किसी बात को अभिव्यक्त कर सकते है शायद इंग्लिश या किसी और भाषा मे नहीं। यह भी सच है की सारी भाषये अच्छी है पर हम अपनी मात्र भाषा के लिए एक छोटा सा काम काम करे ये एक प्रकार से देश सेवा ही तो है। कम से कम दूसरों के लिए नहीं तो हिन्दी का हम पर जो अहसान है उसके लिए।

मुझे अपनी हिन्दी पर गर्व है।

मुझे हिन्दी मे पढ़नालिखना और बोलना अच्छा लगता है।

एक
छोटी सी
request

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Search anything here

Follow by Email