शनिवार, 9 सितंबर 2017

KFC Success Story in Hindi | KFC सक्सेस स्टोरी

KFC Success Story in Hindi | KFC सक्सेस स्टोरी
कर्नल सैंडर्स की ये कहानी किसी के भी होश उड़ा देने के लिए काफी है| एक ऐसा इंसान जो जीवन भर संघर्ष करता रहा लेकिन अपने अंतिम दिनों में सफलता की एक ऐसी मिसाल पेश की जिसे सुनकर कोई भी दांतों तले उंगलियां दबा लेगा।

KFC Success Story in Hindi

जब वो 5 साल के थे तब उनके पिता का देहान्त हो गया था। मात्र 16 साल की उम्र में उन्हे स्कूल छोड़ना पड़ा और 17 साल की उम्र तक उन्हें 4 नौकरियों से निकाला जा चुका था। 18 साल की उम्र में ही उनकी शादी हो गयी। 18 से 22 वर्ष की आयु तक कंडकटर की नौकरी की और इसके बाद आर्मी में गए पर वहां से भी उन्हे निकाल दिया गया। इसके बाद वे Law स्कूल में दाखिला लेने गए पर वह से भी रिजेक्ट कर दिया। फिर उन्होने लोगों के insurance(बीमा) का काम शुरू किया पर वह भी फेल हो गए। 19 साल की उम्र में वे एक बच्ची के पिता बने पर 20 साल की उम्र में उनकी पत्नी उनको छोड़ के चली गयी और बच्ची को अपने साथ ले गयी। अपनी खुद की बेटी से मिलने के लिए उसे किडनेप करने की कोशिश की लेकिन किस्मत ने साथ नहीं दिया।
उहोने एक होटल में बावर्ची का काम किया। 65 साल की उम्र में वे रिटायर हो गए
रिटायरमेंट के बाद पहले ही दिन सरकार की ओर से मात्र $105 का चेक मिला। उन्होने कई बार आत्महत्या करने की कोशिश भी की। एक बार एक पेड़ के नीचे बैठ कर अपनी जिंदगी के बारे में लिख रहे थे तभी अहसास हुआ कि अभी तो जिंदगी मे बहुत कुछ करना बाकि है। वो एक शानदार कुक(बाबर्ची) थे। 100$ के चेक से $87 निकाले और कुछ चिकन फ्राई करके उसे गली गली में बेकने लगे।
जो इंसान 65 साल की उम्र में आत्महत्या करना चाह रहा था। वही इंसान यानि कर्नल सैंडर्स 88 साल की उम्र में अरबपति बने यानि Kentucky Fried Chicken (KFC) के मालिक है। आज दुनिया भर में KFC के होटल हैं और आज KFC एक बहुत बड़ा ब्रांड बन चुका है।
कर्नल सैंडर्स का संघर्ष वास्तव पूर्ण कहानी बहुत प्रेरणादायक है। एक इंसान जिसने अपना पूरा जीवन संघर्ष करते हुए निकाल दिया। यहाँ तक कि 65 वर्ष की आयु में आत्महत्या करने की कोशिश भी की, वही इंसान 88 साल की उम्र तक अरबपति बन गया।

You May also like : क्रोध के दो मिनट – प्रेरणादायक कहानी

दोस्तों किस्मत कभी भी पलट सकती है। बहुत से लोग ये शिकायत करते हैं कि उनकी सारी जिंदगी दुःखों से संघर्ष करते निकल गयी। कर्नल सैंडर्स की कहानी उन लोगों के लिए एक वरदान साबित हो सकती है। उनकी कहानी बताती है कि कभी निराश मत होइये, अपनी अंतिम सांस तक प्रयास कीजिये, क्यूंकि किस्मत पलटते देर नहीं लगती।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Search anything here

Follow by Email